पीडब्ल्यूडी अम्बिकापुर विभाग को बेवजह बदनाम करने की साजिश का हुआ पर्दाफाश….

पीडब्ल्यूडी अम्बिकापुर विभाग को बेवजह बदनाम करने की साजिश का हुआ पर्दाफाश….

अंबिकापुर/छत्तीसगढ़ -दिनाँक 2/10/21 को hindustan mirrors के पोर्टल न्यूज़ में प्रकाशित किया गया है कि पीडब्ल्यूडी के प्रमुख अभियंता के सख्त नियंत्रण के बावजूद कम्प्यूटर ऑपरेटर के आतंक से कर्मचारियों में भय का माहौल…
जो कि पूरी तरह से गलत जानकारी देकर खबर बनवाई गई है, इस संबंध में हमारे द्वारा पूरी तरह से छानबीन की गई तो पता चला है कि पीडब्ल्यूडी में सन 2011 से ही ऑनलाइन सिस्टम से ठेकेदारों को भुगतान किया जाना चालू है और किसी भी तरह का भुगतान ठेकेदारों को ऑफलाइन तरीकें से नही किया जाता है, ऑनलाइन सिस्टम होने की वजह से कार्यो की राशि में परिवर्तन किया जाना सम्भव ही नही है, किसी भी देयक का भुगतान होने के पूर्व विभाग में कार्यरत अंकेक्षक शाखा,तकनीकी शाखा ,सम्भागीय लेखालिपिक ,वरिष्ठ लेखालिपिक एवं कार्यपालन अभियंता की जानकारी के उपरांत ही भुगतान किया जाता है तथा प्रत्येक माह भुगतान किए गए बिल की प्रति को महालेखाकार कार्यालय में प्रस्तुत किया जाता है, जिससे ये तो स्पष्ट होता है कि किसी भी संभाग में कार्यरत कम्प्यूटर ऑपरेटर (अभिषेक सोनी) के द्वारा राशि में परिवर्तन कर ठेकेदारों को अधिक भुगतान किया जाना सम्भव ही नही है।
और रही बात कम्प्यूटर ऑपरेटर के द्वारा कार्यपालन अभियंता वेदिया को मक्खन लगाने की तो कार्यालय में कार्यरत सभी कर्मचारियों या अधिकारियों का यह आचरण होता है कि वो अपने उच्चधिकारियों के आदेश का पालन किया जाना होता है,अभिषेक सोनी के द्वारा शराब और शबाब की व्यवस्था किया जाना,जो कि बेवजह अधिकारी को बदनाम करने की कोशिश करने की वजह से ऐसा किया जा रहा है जिसके कोई भी प्रमाण खबर लिखने वाले के पास नही है इस संबंध में खबर लिखने वाले के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने के लिए पुलिस विभाग को सूचित किया गया है ताकि इनके खिलाफ उचित कार्यवाही की जाये और भविष्य में इसतरह की कोई भी गलत खबर प्रकाशित न की जाये।
अभिषेक सोनी से कार के संबंध में पूछताछ की गई तो उनके द्वारा बताया गया है कि कार सेकंड हैंड खरीदी गईं हैं जिसकी वास्तविक कीमत एक बाइक के बराबर ही है और इनकी माताजी के द्वारा ही कार की राशि दी गई है जो कि एक शिक्षिका है।

पूरी जाँच में यह पूरी तरह से स्पष्ट हुआ है कि ये कार्यपालन अभियंता के द्वारा एवं कम्प्यूटर ऑपरेटर अभिषेक सोनी के द्वारा शासकीय कार्यो का निर्वहन अच्छी तरह से किया जा रहा है ,जिससे कुछ ठेकेदारों का गलत तरीकें से भुगतान नही हो पा रहा है इसलिए उन लोगों के द्वारा विभाग के कर्मचारियों को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है, ये खबर वास्तविक जानकारी के आधार पर प्रकाशित की जा रही हैं जो कि पूर्णतया सत्य है ,पूर्व में प्रकाशित पोर्टल की जानकारी पूर्णतया असत्य एवं निराधार है।

Uncategorized