पार्टनर के साथ पर्सनल रिश्ते में प्राइवेसी की सीमाएं कैसे बनाएं?

पार्टनर के साथ पर्सनल रिश्ते में प्राइवेसी की सीमाएं कैसे बनाएं?

 

 

रिश्तों में प्राइवेसी रखना आपके अपने मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। चूंकि आप एक वयस्क हैं और आपके जीवन में अपनी कुछ सीमाएं हैं, जिन्हें आपको प्रत्येक व्यक्ति के साथ निर्धारित किया जाना चाहिए। चाहे वह आपके भाई, माता-पिता, रिश्तेदार, दोस्त, प्रेमी या प्रेमिका या जीवनसाथी और ससुराल वाले आदि हों। उनके लिए सीमा रेखा कैसे निर्धारित करें? अपने पार्टनर के साथ प्राइवेसी की उन सीमा रेखाओं को खींचने के लिए यहां कुछ टिप्स दिए गए हैं।

अपनी सीमाओं की सूची बनाएं
आपको सबसे पहले खुद को जानना होगा कि आपकी प्राइवेसी की सीमाओं में क्या शामिल है। क्या आपको पुश करता है, और किस बात से आपका दम घुटता है। इसकी एक सूची बनाएं, अपने पार्टनर के साथ बैठे और उसके साथ डिस्कस करें कि आप अपने लिए प्राइवेसी की रेखा कहां खींचना चाहते हैं।

क्या स्वीकार किया जा सकता है और क्या नहीं
अब जब आपने अपनी सीमाएं तय कर ली हैं या उसे अपने पार्टनर को भी समझाने की कोशिश की है, तो आपको रिश्ते में भी थोड़ा मिलनसार होना चाहिए। यह वह जगह है जहां “क्या स्वीकार्य है” कदम उठाता है। जिन बातों को अस्वीकार्य करना है, उसकी सूची को भी स्पष्ट करें। इसमें आपके फोन की जांच करना, आपके मेल या टेक्स्ट आदि पढ़ना शामिल है। इसे शांति पूर्वक तरीके से अपने पार्टनर को बताएं कि यह “ऑफ लिमिट” है और इससे आपका दम घुटता है या जो आपको उससे दूर धकेल रहा है।

[banner caption_position=”bottom” theme=”default_style” height=”auto” width=”100_percent” count=”-1″ transition=”fade” timer=”4000″ auto_height=”0″ show_caption=”1″ show_cta_button=”1″ use_image_tag=”1″]

संकेत में बात न समझाएं
डायरेक्ट बात करें, कम्युनिकेशन के गलत होने के लिए कोई जगह न दें। संकेत में बात न करें, बल्कि डायरेक्ट बात करना ज्यादा सही रहता है। हो सकता है कि उसे इस बात का एहसास भी न हो कि आपकी प्राइवेसी की सीमाओं को तब तक खत्म किया जा सकता है, जब तक कि आप इसे ज़ोर से नहीं कहते। यह कभी न सोचें कि दूसरा अपने आप समझ जाएगा।

अपने पार्टनर को भी ऐसा करने के लिए कहें
एक बार जब आप अपनी खुद की सीमाएं और लिमिटेशन बना लेते हैं, तो उसे भी अपनी सीमाएं खींचने के लिए कहें। यह हेल्दी है और दिखाता है कि आप दूसरे व्यक्ति का भी सम्मान करते हैं। हालांकि कभी-कभी स्थिति ऐसी भी बन सकती है कि वे अलग भी हो सकते हैं, इसलिए आपको इसे भी स्वीकार करना होगा।

शारीरिक जरूरतों की सीमाएं भी तय करें
आपकी सीमाएँ फिजिकल भी हो सकती हैं! अगर आपको कहीं छूना पसंद नहीं है, तो रेखा खींचिए। आपको बाथरूम का दरवाजा खुला छोड़ना पसंद नहीं है, तो कहिए। आप बाथरूम में बैठकर अपने बिज़नेस की बात नहीं कर सकते हैं, जबकि वह अपना खुद का बिजनेस करता है, तो कर सकता है, इसलिए इसे क्लियर करना जरूरी है। अपने दिमाग में उस सारी कुंठा को पनपने देने के बजाय, बात करना सबसे अच्छा है और जैसा कि कहते हैं, कम्युनिकेशन सभी स्वस्थ संबंधों की कुंजी है।

 

NewsPoint बचपन में झेला हादसा फिर ठुकराई 6000 करोड़ की सम्पत्ति और 34 बच्चों को अपनाया, जानें प्रीति जिंटा से जुड़े अनसुने किस्से

https://www.nationalnewstime.com/archives/53197

क्रिस गेल ने पंजाब को दिया बड़ा झटका, KKR के खिलाफ मैच से पहले छोड़ा IPL

सवाल पब्लिक का: Punjab में Channi सरकार गिराने के लिए क्यों मजबूर हुए कैप्टन ?

 

भाजपा मंडल पदाधिकारियों व बूथ अध्यक्षों की बैठक संपन्न

महिला डॉ देवल राठौर व CHC इंचार्ज लक्ष्य परिहार पर लगे भर्ष्टाचार के आरोप, चिकित्सालय के सामने लगाया धरना

 

Education बड़ी खबर सेहत