मिले हक अधिकार के तहत टीम नरेन्द्र भवानी के नेतृत्व मे समाज लिडरो के साथ मिले पुलिस महानिरक्ष बस्तर से सौपा ज्ञापन

बस्तर संभाग के सुकमा जिला, दंतेवाड़ा जिला, बस्तर जिला, में  विशेष समुदाय पर  हो रहा अत्याचार, हो रहा सवैधानिक अधिकारों का हनन, मिले हक अधिकार के तहत टीम भवानी के नेतृत्व में समाज लीडरस के साथ मिले पुलिस महानिरक्ष बस्तर से*

दंतेवाड़ा जिले के कटेकल्याण ब्लाक के ग्राम पंचायत मत्ताडी के लोग जो 15 परिवार है घर खाली करने का फरमान हुवा है जारी शुक्रवार तक अगर परिवार को वापस घर में सुरक्षा के साथ नहीं भेजा गया तो जगदलपुर मुख्यालय में बैठूंगा धरना पर*

*मामले में नरेंद्र भवानी ने बस्तर संभाग के सुकमा जिला, दंतेवाड़ा जिला, बस्तर जिला, कोंडागांव जिला एवं अन्य जिलों में जो मसीही विश्वास करने वाले लोग रहते है ! उन पर गैरसवैधानिक ढंग से उन्हें या तो गांव से निकाला जा रहा है, या तो भीड़ की भीड़ मारपीट करती है ! और तो और मृत्यु हो जाने पर दो से तीन दिन तक अंतिम संस्कार तक करने के लिए गुलामो के जैसा उनके आदेशों का इंतजार करना पड़ता है और वो भी पोलिस एवं सम्बंधित जिला प्रशासन के सामने, अगर यह विशेष वर्ग के लोग मसीही पर विश्वास करते है तो क्या इन्हे भारतीय सविंधान से प्राप्त अधिकार का हक नहीं और हक है तो क्यु कानून का परिपालन नहीं होता है !*

*भवानी आगे कहते हुए काहा की वर्तमान में दंतेवाड़ा जिला के कटेकल्याण ब्लाक मत्ताडी पंचायत में 15 परिवार को उनके घर से जमींन से बेदखल किया गया है, उन्हें ससम्मान अनुच्छेद 21 मौलिक का अधिकार के तहत घरो में वापस सुरक्षा के साथ कौन भिजवाएगा उन्हें उनका आश्रय का अधिकार प्राप्त हो !*

*जिला बस्तर दरभा ब्लाक ग्राम पंचायत गुमड़पाल में सरपंच सचिव द्वारा जब मसीही विश्वास करने वाले जो धर्म नहीं बदले है केवल धार्मिक स्वतंत्रता के तहत अपना विश्वास मसीही येशु पर करते है ! बावजूद जब वे लोग जाती प्रमाण पत्र बनाने हेतु सरपंच के पास जाते है ! तो सरपंच द्वारा जबरन फार्मेट में जाती ईसाई, धर्म ईसाई लिख के दे रहे है जो गैर सवैधानिक है ! इसका न्याय कौन करेगा !*

*दंतेवाड़ा जिला के कुवाकोंडा ब्लाक ग्राम पंचायत गोंगपाल में लगभग 25 लोगो को गांव से बाहर घर जमीन छोड़कर जाने को कहा जा रहा है और तो और चार दिन पहले लास दफ़न विधि की गई थी उस लास को वापस खोदकर निकाल के बाहर ले जाओ का फरमान जारी किये आखिर क्यों और यह कौन लोग है जो ऐसा फरमान सविंधान को कुचल कर जारी करते है !*

*आगे भवानी ने कहा की महोदय इस ज्ञापन के माध्यम से यह भी बताना चाहेंगे की बस्तर संभागीय स्तरीय में बहुत सी ऐसी समस्या है लेकिन कई जिले के पुलिस अधीक्षक न्याइक रूप में जो कानून हाथ में ले रहे है उनपर कोई पकड़ नहीं, ना ही कोई कार्यवाही, ऐसी स्थिति में कैसे बस्तर जैसे इलाके में सविंधान का पालन कराया जाएगा कानून व्यवस्था कैसे बनी रहेगी कृपया मामला गंभीर है थोड़ा मामले को संज्ञान में लेकर कम से कम सभी जिले के पुलिस अधीक्षकों को आदेश दिया जाए की कानून व्यवस्था बनी रहे सभी वर्गो के लोगो को सवैधानिक अधिकार प्राप्त हो अधीकार छीनना ना पड़े ! ज्ञापन कार्यक्रम में भवानी के साथ सामाजिक लीडर्स उपस्थित रहे !*

बड़ी खबर