निजी जमीन पर अतिक्रमण के साथ शासकीय जमीन में प्रधानमंत्री आवास निर्माण

खिलावन साहू
राजनांदगांव ब्यूरो
छुरिया-इन दिनों नगर पंचायत छुरिया में एक संगीन मामला की चर्चा जोरों पर है,मामला यह है कि एक सभ्रांत परिवार के द्वारा अपने ही परिवार के व्यक्ति की लगानी भूमि पर अतिक्रमण किया गया है।साथ ही साथ छ.ग राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित (राइस मिल)की शासकीय भूमि पर भी अतिक्रमण कर धड़ल्ले से प्रधानमंत्री आवास का निर्माण कराया जा रहा है।शिकायतकर्ता विकास गुप्ता द्वारा शिकायत की गई है कि उनकी निजी स्वामित्व की भूमि खसरा क्रमांक 131/4 व 131/5 के सामने के कुछ हिस्से पर व राइसमिल की जमीन पर प्रकाश गुप्ता व उनके परिवार द्वारा अवैध रूप से अंग्रेजी वर्णमाला के एल अक्षर के आकार में लगानी व शासकीय भूमि पर बेजा कब्जा कर ईट की दीवार बनाकर अवैध अतिक्रमण किया है।जिससे आवेदक के भूमि पर लोक बाधा के साथ आवागमन में अवरोध उत्पन्न किया गया है।साथ ही साथ बी.पी.एल कार्ड धारक कैलाश गुप्ता द्वारा भी आवेदक के भूमि के सामने कुछ हिस्से व राइसमिल की कुछ डिसमिल भूमि पर प्रधानमंत्री आवास का निर्माण कराया जा रहा है।जिसकी शिकायत आवेदक द्वारा राजस्व विभाग में की गई है।यदि राजस्व विभाग द्वारा उपरोक्त संबंधित अतिक्रमनकारियो के भूमि का सीमांकन व नापजोख किया जाए तो राइसमिल की बहुत सी भूमि अतिक्रमण मुक्त हो जाएगी।

गरीबो के हक पर डाका, अमीरो पर मेहरबान नगर पंचायत

मामला यह है कि एक सभ्रांत परिवार के द्वारा गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिए शासन की महत्वकांक्षी योजना प्रधानमंत्री आवास का लाभ लिया जा रहा है।यहाँ गरीब तबके के लोग आवास के लिए नगर पंचायत कार्यालय जा जा कर थक चुके है,किन्तु उन्हें आवास नही मिल रहा है।नियम कायदों का हवाला देकर उन्हें भगा दिया जाता है।वही कैलाश गुप्ता द्वारा गरीबो के इस योजना का लाभ लेकर प्रधानमंत्री आवास बनाया जा रहा है।नगर पंचायत द्वारा कैलाश गुप्ता के पारिवारिक पृष्ट भूमि ,आर्थिक स्थिति को जानते हुए भी आधा-अधूरा दस्तावेजो का व झूठे हलफनामे का परीक्षण किए बगैर ही प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कर दिया गया।यहाँ पर नगर पंचायत के अधिकारियों द्वारा निर्माण किये जाने वाले स्थल का निरीक्षण, परीक्षण व लगे हुए शासकीय भूमि व उनके विभाग छ.ग राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित से अभिमत नही लिया गया।साथ ही साथ निर्माण किये जाने वाले आवास की लंबाई चौड़ाई व प्रमाणित नक्शे का अवलोकन भी नही किया गया।नगर पंचायत के अधिकारी कर्मचारियों द्वारा आवेदन से लेकर निर्माण प्रक्रिया तक लापरवाही करना उनके कर्तव्य के प्रति उदासीनता एवं घोर लापरवाही को प्रदर्शित करता है।यदि यह मामला किसी गरीब व्यक्ति के द्वारा दिया गया होता तो उस पर अब तक कार्यवाही हो जाती ।गरीबो के आशियाने पर कैलाश गुप्ता व उनके परिवार द्वारा इस तरह से डाका डाला जाना उनके व्यक्तिगत स्वार्थ को परिलक्षित करता है।इस मामले में नगर पंचायत के अधिकारियों की मिलीभगत से इंकार नही किया जा सकता।नगर पंचायत छुरिया में प्रधानमंत्री आवास योजना से वंचित गरीब लोगों के द्वारा इस मामले को लेकर उच्च स्तरिय शिकायत किये जाने की तैयारी की जा रही है।

इस मामले पर मेरे द्वारा इंजीनियर को मार्क कर स्थल निरीक्षण करने आदेशित किया गया है।प्रतिवेदन आने पश्चात कार्यवाही की जाएगी

हेमंत वर्मा
मुख्य नगर पालिका अधिकारी
छुरिया

बड़ी खबर