कौशल विकास योजना , जातियों की जड़ें मजबूत करने के लिए चलायी जा रही है

देवरिया। अखिल भारतीय प्रजापति कुम्भकार महासंघ उत्तर प्रदेश पूर्वी जोन के अध्यक्ष रामबिलास प्रजापति ने कहा कि वर्तमान में केन्द्र व प्रदेश की सरकारें यथास्थिवादियों के इसारे पर चल रही है और ये लोग समाज में किसी भी प्रकार के बदलाव के बिरोधी हैं।ये चाहते हैं कि वर्तमान की जातिऔर वर्णवादीव्यवस्था बनी रहे।इस मंशा से प्रदेश की योगी सरकार ने कौशल विकास योजना एक साज़िश के तहत लांच किया जिससे इन शिल्पकार जातियों को इसी में उलझा दिया जाय जिससे ये आगे की बात न सोच पायें ।
इन्होंने कहा कि कुम्हांर का काम है मिट्टी का बर्तन बनाना, लोहार का काम लोहे के घरेलू उपयोग का छोटा मोटा सामान बनाना,बढ़यी का काम लकड़ी का काम करना,सोनार काम सोने चांदी का काम करना और चमार काम चमड़े का काम करना है ।इन्हीं कामों के आधार जातियां बनी थी जो आगे चलकर जन्मना हो गई । काफी संघर्षों के बाद समाज में जातियों का जकड़न ढीला हुआ था किन्तु एक साज़िश के तहत वतर्मान सरकार कौशल विकास योजना के माध्यम से पुनः जातियों के जकड़न को मजबूत करने लिए यह योजना चलाई है ।
उन्होंने कहा कि यह योजना तत्काल बंद किया जाना चाहिए और समाज के शिल्पकारों सहित सभी अतिपिछड़ी जातियों के बेरोजगार युवाओं को १० लाख रुपए का ब्याज रहित ऋण ल
देकर उन्हें विकास की मुख्यधारा से जोड़ा जाना चाहिए । उन्होंने कहा कि अतिपिछड़ी जातियों के बच्चों को नि: शुल्क तकनीकी शिक्षा का प्रशिक्षण देकर उन्हें डाक्टर, इंजीनियर बनाया जाना चाहिए तथा इन्हें
कम्प्यूटर की शिक्षा प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए । उन्होंने चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि इस योजना को तत्काल प्रभाव से बंद कर ब्याज रहित ऋण योजना चालू किया जाय ।

Uncategorized