गुरुग्राम में 35 करोड़ के फर्जीवाड़े में यूनिवर्सिटी चेयरमैन का बेटा और डायरेक्टर गिरफ्तार,

गुरुग्राम में 35 करोड़ के फर्जीवाड़े में यूनिवर्सिटी चेयरमैन का बेटा और डायरेक्टर गिरफ्तार,

: एचएनआर : गुरुग्राम फर्जी दस्तावेज और रसूख दिखाकर 35 करोड़ रुपये लोन लेकर नहीं चुकाने के मामले में पुलिस ने संतोष विश्वविद्यालय के चेयरमैन के बेटे और डायरेक्टर डॉ़ संतोष महालिंगम को गाजियाबाद से अरेस्ट किया है। उन्हें रविवार को ड्यूटी मैजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर 5 दिन के रिमांड पर लिया
पुलिस अब उससे पूछताछ कर केस से जुड़े दस्तावेज बरामद करने के प्रयास कर रही है। साथ ही उसे लोन लिए गए पैसे के निवेश के बारे में पूछा जा रहा है। पुलिस सूत्रों की मानें तो अब तक जांच में सामने आया है कि डॉ. पी महालिंगम ने फाइनेंस कंपनी को गाजियाबाद की जिस 63 एकड़ जमीन को गिरवी रखा है, उस पर भी हुडको से 75 करोड़ और एसजीएस कंपनी से 10 करोड़ रुपये लोन लिया हुआ है।
पुलिस के अनुसार, पीएम फिनकैप लिमिटेड के डायरेक्टर राजेश गुलाटी ने 2 जुलाई को डीएलएफ फेज-3 थाना में संतोष विश्वविद्यालय के डायरेक्टर समेत अन्य पदाधिकारियों के खिलाफ पुलिस को शिकायत दी थी। शिकायत में आरोप लगाया गया कि मैसर्स एसीबी (इंडिया ग्रुप) की नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी से मार्च 2015 में 35 करोड़ रुपये का लोन लिया गया। इसके लिए राजनैतिक और अन्य प्रसिद्ध हस्तियों के साथ फोटो दिखाए गए।
इस कर्ज के एवज में उन्होंने अकबरपुर, बेहरामपुर, मिर्जापुर की कृषि भूमि और प्रताप विहार के 272 फ्लैट के दस्तावेज सिक्यॉरिटी के रूप में कंपनी के पास रखे थे। आरोपितों ने एग्रीमेंट में 30 सितंबर 2015 तक ब्याज सहित लोन राशि वापस करने का भरोसा दिलाया था, लेकिन लोन नहीं भरा। शिकायत में संस्था के फाउंडर चेयरमैन डॉ़ पी महालिंगम, उनके बेटे व विश्वविद्यालय के डायरेक्टर डॉक्टर संतोष महालिंगम, संतोष ट्रस्ट और मैसर्स महाराज जी एजुकेशनल ट्रस्ट बोर्ड के सदस्य डॉक्टर धुर मनिकम के अलावा शर्मिला आनंद पर फर्जीवाड़े का आरोप लगाया गया।
एसीपी डीएलएफ करण गोयल ने जांच शुरू करते हुए इन्हें नोटिस भेजकर जांच में शामिल होने के लिए बुलाया। लेकिन पुलिस के पास आने के बजाय ये कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर कर पहुंचे। कोर्ट से याचिका रद्द होने पर पुलिस ने डीएलएफ फेज-3 थाना में एफआईआर दर्ज की है। डीएलएफ फेज-3 थाना एसएचओ इंस्पेक्टर विनीत ने बताया कि मामले में जांच चल रही है। आरोपित से पूछताछ की जा रही है। अन्य आरोपितों की तलाश में रेड की जा रही है।

क्राइम