अकसर यह सवाल पूछते हैं कि आखिर स्कूल कब खुलेंगे?

देश में बच्चों की लगातार ठप पड़ी पढ़ाई से चिंतित लोग अकसर यह सवाल पूछते हैं कि आखिर स्कूल कब खुलेंगे? इस सवाल का जवाब देते हुए आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने मंगलवार को गुड न्यूज दी। उन्होंने कहा कि बच्चे कोरोना के खिलाफ काफी मजबूत हैं और वे वयस्कों के मुकाबले इससे ज्यादा अच्छे ढंग से निपट सकते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों का भी एंटीबॉडी एक्सपोजर उतना और वैसा ही है, जैसा वयस्कों में है। उन्होंने कहा कि स्वीडन जैसे कई स्कैंडिनेवियन देशों ने तो कोरोना की किसी भी लहर के दौरान प्राइमरी स्कूलों को बंद ही नहीं किया।

उन्होंने कहा कि किशोरों के मुकाबले छोटे बच्चों में इम्युनिटी ज्यादा बेहतर होती है। बलराम भार्गव ने कहा कि देश में स्कूलों में को जब खोलने का विचार किया जाएगा तो सबसे बेहतर होगा कि प्राइमरी स्कूलों को पहले खोला जाए। सेकेंडरी स्कूलों के मुकाबले प्राइमरी स्कूलों को वरीयता दी जाए। हालांकि इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्राइमरी स्कूलों को खोलने से पहले यह सुनिश्चित करना होगा कि स्कूल के पूरे सपोर्ट स्टाफ का वैक्सीनेशन हो जाए। भार्गव ने कहा, ‘स्कूल बस के ड्राइवर, टीचर्स समेत सारे स्टाफ को टीका लगा होना चाहिए। तभी स्कूलों को खोलने की परमिशन मिलनी चाहिए।’

Concerned about the continuous stalled studies of children in the country, people often ask this question, when will the schools open? Answering this question, ICMR Director General Balram Bhargava gave good news on Tuesday. He said that children are very strong against corona and they can deal with it better than adults. He said that the antibody exposure of children is also the same as it is in adults. He said that many Scandinavian countries like Sweden did not even close primary schools during any wave of Corona.

He said that immunity is better in young children than in adolescents. Balram Bhargava said that when the idea of ​​opening schools in the country is taken up, it would be best to open primary schools first. Preference should be given to primary schools over secondary schools. However, along with this, he said that before opening the primary schools, it has to be ensured that the entire support staff of the school is vaccinated. Bhargava said, ‘All the staff including the school bus driver, teachers should be vaccinated. Only then the permission should be given to open the schools.

Uncategorized