अंबाला–दीवानगढ़ के गरीब परिवार से प्रिंस नाम का लड़का पास के ही नन्योला में खल फैक्ट्री में नोकरी पर गया, जहां पहले ही दिन हादसे में हुई–मौत

अंबाला–दीवानगढ़ के गरीब परिवार से प्रिंस नाम का लड़का पास के ही नन्योला में खल फैक्ट्री में नोकरी पर गया, जहां पहले ही दिन हादसे में हुई–मौत

: एचएनआर : अंबाला शहर, नन्योला में खल एवं फीड मिल में पहले दिन काम पर गए
नाबालिग प्रिंस की मौत हो गई।
फैक्ट्री मालिक बोला हुआ हार्ट–अटैक।
प्रिंस नन्योला से सटे पंजाब के गांव दीवानवाला का रहने वाला था। शुक्रवार को शव का सिटी सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया गया। परिजनों ने मिल मालिक पर लापरवाही का आरोप लगाया हैं।
हारविन खल एवं फीड मिल के संचालक अमरेंद्र सिंह ने परिवार के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि पहले दिन ही काम पर आया यह लड़का एकदम से चक्कर आकर मशीन पर गिर गया था। हालांकि, मशीन में सेफ्टी के उपाय किए होने से उसे ज्यादा चोट नहीं आई। गिरने से कुछ हल्की चोट जरूर लगी थी। अब वे नहीं जानते हैं कि उसे हार्ट अटैक आया या उसे पहले से कोई दिक्कत थी।
पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने पर सब स्पष्ट हो जाएगा। अमरेंद्र ने बताया कि वे पहले दिन आए इस वर्कर को प्राइवेट अस्पताल भी लेकर गए लेकिन तब तक उसकी डेथ हो चुकी थी। इसके बाद वे परिवार के पीछे सिटी सिविल अस्पताल भी गए। वहीं, प्रिंस के ताया सुरेंद्र पाल ने बताया कि उनका भतीजा प्रिंस अभी 17 साल 8 महीने का था। जिसने 12वीं के पेपर देने थे, लेकिन कोरोना के चलते नहीं दे पाया था।
प्रिंस वीरवार सुबह 9 बजे घर से काम पर गया था। करीब सवा 12 बजे उसके साथ हुई घटना के बारे में पता चला। जब वे मौके पर गए तो वह उन्हें एक प्राइवेट अस्पताल में मिला, जिसकी मौत हो चुकी थी। उन्हें मौत की वजह हार्ट अटैक बताई गई जबकि प्रिंस के शरीर पर चाेटाें के कई निशान थे। वहां से वे प्रिंस को सिटी सिविल अस्पताल लेकर गए, जो वाहन करके लेकर गए उसका किराया खुद दिया। मिल मालिक ने कोई मदद नहीं की। इस घटना के बाद मिल भी बंद कर दिया गया था। मामले में पुलिस को शिकायत कर दी है।

क्राइम