लोक स्वास्थ्य व जनहित के दृष्टिगत मुड़िया मेला निरस्त , डीएम ने जारी किए आदेश

मथुरा :- गोवर्धन का विश्व प्रसिद्ध मुड़िया पूर्णिमा मेला निरस्त कर दिया गया है। कोरोना संक्रमण के चलते जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल ने देर रात आदेश जारी कर दिए। डीएम द्वारा गठित टीम की रिपोर्ट पर यह फैसला लिया गया। लोक स्वास्थ्य व जनहित के दृष्टिगत बाहर से आने वाली भीड़ को प्रतिबंधित करते हुए भीड़ का आयोजन निरस्त कर दिया गया है। राजकीय मुड़िया पूर्णिमा मेला गोवर्धन में आषाढ़ माह की एकादशी पर लगता है। जिसमें देश विदेश से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। इस बार यह मेला 20 से 24 जुलाई तक लगना था। चूंकि वर्तमान में कोरोना महामारी का प्रकोप है। महामारी अधिनियम के प्रावधान वर्तमान समय में लागू हैं। मेला लगे या नहीं, इस संबंध में चिकित्सा अधीक्षक गोवर्धन, सीओ गोवर्धन, एसडीएम गोवर्धन व एडीएम प्रशासन की संयुक्त समिति गठित की गई थी।  समिति ने दानघाटी, मानसी गंगा, मुखारबिंद व जतीपुरा के सेवायतों, संत-धर्माचायों  से वार्ता की गई।  सभी ने मेला निरस्त किए जाने का अनुरोध किया। समिति ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी। प्रदेश सरकार की कोरोना गाइड लाइन के हिसाब से ही बाजार व अन्य जगह खोली गई हैं, जिनमें एक स्थान पर 50 लोगों से अधिक लोग एकत्र नहीं हो सकते। ऐसे में लाखों लोगों से गाइड लाइन का पालन करना संभव नहीं है। इसलिए कोरोना काल को देखते हुए विश्व प्रसिद्ध मुड़िया पूर्णिमा मेला को लोक स्वास्थ्य व जनहित में डीएम ने आदेश जारी कर निरस्त कर दिया है।

 

प्रदेश बड़ी खबर