किसान ने विद्युतकर्मी पर लगाया बिल संसोधन के नाम पर धोखाधड़ी का आरोप*

*किसान ने विद्युतकर्मी पर लगाया बिल संसोधन के नाम पर धोखाधड़ी का आरोप*
*
*एक ही रसीद नंबर पर जमा हो गई अलग-अलग धनराशि*

*बिल की वसूली करने पहुंचे लाइनमैन को रसीद दिखाने पर हुआ खुलासा*

*पीड़ित किसान ने दी कोतवाली में तहरीर, जांच बाद कार्यवाई का आश्वासन*

*फतेहपुर-:* बिल संशोधन के नाम पर एक किसान से बिजली विभाग के ही एक कर्मचारी ने ठगी और धोखाधड़ी की है ! महीनों से कर्मचारी के चक्कर काटने के बाद किसान ने मामले की बुधवार को कोतवाली में तहरीर देकर शिकायत की। पुलिस ने जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया है। बिंदकी कोतवाली क्षेत्र के जाफराबाद निवासी अशोक कुमार तिवारी ने बताया कि नलकूप का कनेक्शन पिता के नाम पर था। पिता की 2013 में मृत्यु हो गई जिसके बाद कनेक्शन के बिल की अदायगी के लिए बिजली विभाग ने नोटिस भेजा। अधिशासी अभियंता खंड 2 कार्यालय में तैनात लिपिक विपिन शुक्ला से बिल संशोधित कराने के लिए संपर्क किया। करीब ₹300000 के बिल को डेढ़ लाख रुपए में कर्मचारी ने संशोधित करा देने की बात कही। उसने 27 मार्च को कर्मचारी को डेढ़ लाख रुपए और बिल संबंधी कागज दिए। जिसके बाद कर्मचारी ने बिल जमा किए जाने की 4 रसीदें दी। इसमें तीन रसीदों का क्रमांक संख्या एक ही है। एक ही क्रमांक संख्या वाली रसीदों में 34000, 49000, और ₹1000 जमा है। रुपए जमा करने के बाद वह निश्चिंत हो गया था। कुछ दिन बाद लाइनमैन बिजली की बिल की वसूली के लिए फिर से दबाव बनाने लगा और कनेक्शन काटने पर उतारू हो गया। लाइनमैन को रसीदें दिखाई तो उसने रशीद फर्जी होने के बारे में बताया। उसके बाद कर्मचारी से संपर्क किया तो वह उसे कोई न कोई बहाना बताकर टरका देता है।परिवार के गहने रखकर रकम इकट्ठा कर कर्मचारी को बिल संशोधन के लिए रुपए दिए थे। निरीक्षक प्रशासन नियाज अहमद ने बताया तहरीर आई है मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। इस मामले पर जब अधिशासी अभियंता विद्युत खंड 2 आर. एन. सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है। अगर एक ही नंबर की रसीद पर अलग अलग धनराशि जमा हुई है तो मामले की जांच कर दोषी के खिलाफ कड़ी कार्यवाई की जाएगी।

क्राइम देश विदेश प्रदेश