गाजीपुर झड़प किसानों के बाद अब भाजपा नेताओं पर भी दर्ज हो गई एफ आई आर

गाजीपुर झड़प किसानों के बाद अब भाजपा नेताओं पर भी दर्ज हो गई एफ आई आर

नौशाद सैफी

ज़िला डिस्टिक सीनियर क्राइम रिपोर्टर

बुधवार को गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के धरना स्थल के पास भाजपा कार्यकर्ताओं और किसानों के बीच हुई हिंसक झड़प में अब गाजियाबाद पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कर लिया है। गुरुवार को गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में 200 प्रदर्शनकारी किसानों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।

किसानों के द्वारा कौशाम्बी पुलिस थाने में भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने अपनी शिकायत में कहा है कि बीते बुधवार को भाजपा कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उनके धरना स्थल के पास इक्कट्ठा हो गए और हंगामा करने लगे। उन्होंने प्रदर्शनकारियों को भड़काने की भी कोशिश की ताकि किसान आंदोलन को बदनाम किया जा सके।

किसानों ने एफआईआर में कहा है कि पुलिस की मौजूदगी में भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शनकारी किसानों पर हमला किया। इस हमले में कई बुजुर्ग किसानों को चोटें आई है।

बीते गुरुवार को भाजपा नेता अमित वाल्मीकि की शिकायत पर गाजियाबाद पुलिस ने 200 किसानों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। भाजपा नेता ने अपनी शिकायत में कहा था कि बुधवार को भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं और प्रदर्शनकारी किसानों ने उनके साथ मारपीट की। साथ ही भाजपा नेता ने जातिसूचक शब्दों के इस्तेमाल के आरोप भी लगाए थे। भाजपा नेता की शिकायत पर पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों के खिलाफ धारा 147, 148, 223, 352, 427 और 506 के तहत मामला दर्ज किया है।

बता दें कि बीते बुधवार को बीजेपी के कार्यकर्ता नवनियुक्त प्रदेश मंत्री अमित वाल्मीकि का स्वागत करने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर खड़े थे। इस दौरान पुलिस की मौजूदगी में दोनों पक्षों के बीच जमकर लाठी डंडे चले. दोनों पक्षों की तरफ से हुए हमले में कई गाड़ियां भी क्षतिग्रस्त हो गईं थी। भाजपा कार्यकर्ताओं ने किसानों पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्होंने उनकी गाड़ियों में तोड़फोड़ की और मारपीट की।

वहीं किसान नेताओं ने दावा किया कि उन्होंने जिला प्रशासन और सरकारी अधिकारियों को सूचित किया था कि वे भाजपा कार्यकर्ताओं को हटाएं क्योंकि वे स्वागत रैली के नाम पर हंगामा कर रहे हैं। किसान नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ता हंगामा करते हुए उनके स्टेज पर चढ़ गए और अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने लगे। मना कर भाजपा कार्यकर्ताओं ने किसानों के ऊपर हमला कर दिया जिसमें कई प्रदर्शनकारी घायल हो गए। इस हमले के बाद किसान नेताओं ने कहा था कि आंदोलन को बदनाम करने का भाजपा का हथकंडा काम नहीं करेगा, क्योंकि पिछले सात महीने से किसान शांतिपूर्ण तरीके से अपनी जायज मांगों को लेकर धरना दे रहे हैं

अन्तरराष्ट्रीय देश विदेश प्रदेश बड़ी खबर राजनीति राष्ट्रीय