पिता की कोरोना से मौत , बेटी ने संभाला सेल्समैन का पद

इंगोरिया (कन्हैया ढोलिया) कोरोना की दूसरी लहर में असमय ही कई घर उजड़ गैस। एकमात्र कमाने वाला ही साथ छोड़ कर अगर चला जाए तो उस परिवार पर क्या गुजरती है वो तो केवल परिवार वाले ही जानते है । लेकिन इस में परिवार की बेटी ने जज्बा दिखाया और पिता। की असमय मौत होने पर उसके काम की जिम्मेदारी  संभालने का हौसला दिखाया । आत्माराम परमार अप्रैल में संक्रमण की चपेट में आए थे 15  उज्जैन मेट्रिक एडमिट रहकर इलाज करवाया पर ऑक्सीजन की कमी से जूझते 28 अप्रैल को उनका निधन हो गया सहकारिता विभाग ने आत्माराम की जगह उनकी पुत्री कोमल को अनुकंपा नियुक्ति देकर परिवार का सहयोग किया आत्माराम के कोई पुत्र नहीं है 6 लड़कियां हैं पीड़ित परिवार को जल्द ही अनुकंपा नियुक्ति की सहायता  मिलने पर परिवार  ने जिला सहकारी बैंक के शाखा प्रबंधक सतीश व्यास ,समिति प्रबंधक चंद्रदेव चौधरी एवं प्रकाश मुकेश जोशी को सहयोग करने पर आभार व्यक्ति की आत्मा राम की बड़ी पुत्री का विवाह हो गया है छोटी बेटी कोमल ने पिता की नौकरी सेल्समैन का पद संभालने का मन बनाया था कि परिवार को परेशानियों का सामना करने में मदद मिल सके राशन की दुकान पर अब बेटी कोमल परिवार का खर्च चलने के लिए  काम कर रही।

Uncategorized